Beti Bachao Beti padhao speech in hindi- बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर भाषण

 “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” यह सुनकर आपके मन में जरूर यह बात आती होगी कि जितने भी विकास के लिए व्यवस्थाएं चलाई जाती हैं वह बेटियों के लिए क्यों होती है बेटो के लिए क्यों नहीं होती?

तो दोस्तों हमारे समाज में बेटियों को हमेशा ही बेटों से कम आंका जाता है। हर क्षेत्र में लोग लड़कों को ज्यादा बढ़ावा देते हैं और लड़कियों को कम। तो आज हम इस आर्टिकल में Beti bachao beti padhao speech पर बात करेंगे जोकि आपके स्कूल( Class-5,6,7,8,9,10,11,12), कॉलेज,कंपटीशन(SSC/UPSC/MPSC/UPSSSC) में भी आपकी सहायता करेंगे।

हमने अपने पिछले आर्टिकल में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध (Beti bachao beti padhao essay in hindi) पढ़ा था। यदि आपने बाहर नहीं पढ़ाओ तो आप उसे पढ़ सकते हैं।

यहां हम बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर भाषण आपके सामने प्रस्तुत करेंगे जो कि आपके विवेक और ज्ञान के विकास में लाभदायक साबित होंगे।

Articles and speech on beti bachao beti padhao in hindi

सभी अध्यापक और हमारे प्रधानाचार्य को मेरा प्रणाम। मैं ____ आपके सामने beti bachao beti padhao speech प्रस्तुत कर रहा/रही हूं।

हमारे समाज में बेटियों को सदैव ही हीन भावना से देखा गया है और बेटियों को हमेशा ही दुत्कारा गया है। 

पुराणों एवं वैदिक काल से चले आ रहे शासन से हमें यही पता लगता है कि नारियां हमेशा से क्रूरता व अपमान का शिकार हुई है।

द्रोपदी व सीता माता तक को इस प्रथा का शिकार होना पड़ा था और इसी रूप से हमारी आज की बेटियां भी इसका शिकार हो रही है।
Beti Bachao Beti Padhao Speech in hindi
Beti Bachao Beti Padhao Speech in hindi
आए दिन हमें बेटियों के खिलाफ यौन उत्पीड़न,अपहरण, रेप, घरेलू हिंसा के मामले सुनाई देते हैं जिन्हें हम बड़ी आसानी से सुनकर भी अनसुना कर देते हैं जोकि हमारे लिए बड़े ही शर्म की बात है।
बेटियां जोकि हमारी मां,बहन,पत्नी बनकर हमेशा ही हमारे दुखों को काटती आई है हम उन्हें ही बड़ी बेरहमी से काट डालते हैं। क्या यह दिल दहला देने वाला दुष्कर्म आपको शांति प्रदान करता है? किसी भी प्राणी को दुख पहुंचा कर कोई भला कैसे सुख की रोटी तोड़ सकता है?
इसी राह में बेटियों को उनका सम्मान दिलाने, देश के विकास के लिए एवं बेटियों के प्रति प्रेम व जागरूकता फैलाने के लिए हमारी भारत सरकार ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरुआत की।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की शुरुआत/ Beti Bachao par speech:-

नारियों को सर्वत्र इज्जत, सम्मान व ज्ञान दिलाने के लिए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरुआत हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी जी ने 22 जनवरी 2015 में हरियाणा के पानीपत से की।
 
इसकी शुरुआत हरियाणा से होने की पीछे यह कारण था कि वहां पर लड़कियों का लिंगानुपात लड़कों की तुलना में काफी कम था। वहां पर लिंगानुपात का आंकड़ा 775/1000 था जो कि अपने आप में शर्मिंदगी व पतन को दर्शाता है।
अतः लिंगानुपात के सुधार हेतु बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरुआत की गई। इसे शुरुआत में देश के नामित 100 जिलों में लागू किया गया एवं बाद में यह अभियान पूरे देश में चर्चित हुआ व लोगों में बेटियों के प्रति जागरूकता फैलाने में कारगर साबित हुआ।
 
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान को सफल बनाने के लिए हमारे भारत सरकार के 3 मंत्रालयों ने अपना सम्पूर्ण योगदान दिया जिनके नाम महिला और बाल विकास मंत्रालय, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, मानव संसाधन विकास मंत्रालय जिसके अध्यक्ष श्री रमेश पोखरियाल निशंक जी है।

Short Speech on beti bachao beti padhao in hindi:-

हमारे संविधान में दिए गए मूल अधिकारों में भी यह साफ-साफ  किया गया है की सभी प्राणियों को समता का अधिकार अर्थात समानता का अधिकार है परंतु फिर भी हमारे देशवासी किसी ना किसी कारणवश इस बात का विरोध करते रहते हैं और बेटे और बेटियों में फर्क करते हैं।
 
हमारे देश के कई क्षेत्रों में लिंगानुपात बुरी तरीके से प्रभावित हो चुका है। बेटियों से नफरत करने वाले बेटों के जन्म को ही बढ़ावा देते हैं और बेटियों को गर्भ में ही समाप्त करने की रणनीति बनाते हैं। भ्रूण हत्या के कारण लगातार देश में बेटियों की संख्या में गिरावट देखने को मिलती है और बेटों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है।
यह देश के लिए एक खतरे की घंटी है। बेटो और बेटियों में अंतर समझना और उन में भेदभाव करना मनुष्य के राक्षसी प्रवृत्ति को दर्शाता है।
बेटियों के साथ होने वाले अत्याचार जैसे कि घरेलू हिंसा, भ्रूण हत्या, रेप,अपहरण के मामले समुद्र की लहरों के समान बढ़ते ही जा रहे हैं इन्हें रोकने के लिए हम सभी को एकजुट होकर हल निकालना पड़ेगा।
हमारे देश की महिलाओं ने सदैव ही हमारे देश के गौरव को बरकरार रखा है और आगे भी रखेंगी तो भला क्यों बेटों और बेटियों में भेदभाव करें?
कल्पना चावला, किरण मजूमदार शॉ, रोशनी नडार, शिवांगी सिंह जैसी महिलाओं ने पूरे विश्व में भारत के सर को ऊंचा कर दिया है। हमें महिलाओं को आगे बढ़ने का मौका देना चाहिए क्योंकि यही बेटी आगे चलकर एक मजबूत हस्ती के रूप में अपने माता-पिता, समाज व पूरे देश का नाम रोशन करेंगी।

Speech on beti bachao beti padhao in hindi:-

हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने बेटियों को शिक्षित करने व उनके जीवन के महत्व को लोगों तक पहुंचाने के लिए एक अभियान की शुरुआत की जिसका नाम बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ है।
 
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर स्पीच‘ लोगों के मानसिकता के विकास के लिए एवं बेटियों के प्रति लोगों की जागरूकता फैलाने के लिए आरंभ किया गया।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर भाषण
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर भाषण

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के उद्देश्य:-

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के मुख्य उद्देश्य है-

1- बेटियों को शिक्षित करना:-

हमारे देश भारत में बेटियों की शिक्षा पर सभी नागरिकों का ध्यान ना होने के कारण बेटियों को प्रत्येक क्षेत्र में हीनता का सामना करना पड़ता है जो कि देश के लिए एक बड़े खतरे की ओर इशारा करता है। तो इस अभियान का मुख्य उद्देश्य सभी बेटियों को बेटों के समान रूप से शिक्षित करना है।

शिक्षा है सबका अधिकार, बेटी भी है बराबर हकदार।

2- लिंगानुपात में सुधार:-

हमारे देश के विभिन्न क्षेत्रों में बेटो एवं बेटियों का लिंगानुपात संतुष्टि पूर्ण नहीं है। इसलिए बेटो एवं बेटियों के लिंगानुपात मैं सुधार करने को लेकर इस अभियान का महत्व ज्यादा है। 

3- बेटियो तक आर्थिक सहायता पहुंचाना:-

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ मिशन के तहत बेटियों का किसी भी बैंक में एक खाता खुलवाना है और उस पर भारत सरकार सामान्य से अधिक ब्याज प्रदान करेगी जो कि बेटियों के भविष्य के लिए सहायक सिद्ध होगा तो इस प्रकार इस अभियान का उद्देश्य बेटियों तक आर्थिक सहायता मुहैया कराना है।

4-‘समानता के अधिकार’ पर बल देना:-

हमारे संविधान में मौजूद अनुच्छेद 14 से 18 में यह साफ-साफ अंकित किया गया है कि सभी को समानता का अधिकार है अर्थात संविधान के अनुसार कोई भी व्यक्ति किसी से ज्यादा ना ,किसी से कम है। परंतु कुछ व्यक्ति इस चीज का पालन न करते हुए लगातार बेटों एवं बेटियों में भेदभाव करते रहते हैं।

5- बेटियो के शोषण पर रोक लगाना:-

पौराणिक काल से शोषण झेलती हुई आ रही बेटियों को शिक्षा व सम्मान प्राप्त कराना एवं उनके शोषण पर सही माध्यम से (in an authentic way) रोक लगाना “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर स्पीच” का उद्देश्य है।

6- मानसिकता में सुधार करना-

लोगों की गलत मानसिकता के कारण हमारी बेटियां जो कि स्वयं देवी का रूप मानी जाती हैं उन्हें तक आम व्यक्तियों की तरह अधिकार नहीं मिलते।

 
तो , लोगों की गलत मानसिकता में सुधार कर बेटियो की स्थिति में सुधार करना इस अभियान का aim है।

7- देश को सशक्त बनाना:-

किसी भी देश का विकास वहां के नागरिकों में ही बसता है और बेटे एवं बेटियां ही हमारे देश का भविष्य है तो बेटो एवं बेटियों का समान तरीके से विकास करके हम अपने देश का विकास कर सकते हैं।

Beti Bachao Beti Padhao lines in hindi (विशेषताएं):-

1- बेटियों के शिक्षित होने से देश के साक्षरता दर की बढ़ोतरी होगी जो कि हमारे देश को विकसित देश बनाने के लिए कारगर साबित होगा।
2- लोगों की मानसिकता के ठीक होने पर देश की बेटी के साथ हमारा देश विश्व में उभरते देशों में गिना जाएगा।
3- आपराधिक मामलों के कम होने पर देश के विभिन्न शहरों के शासन में सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलेगा।
4- बेटा एवं बेटी दोनों मिलकर देश के विकास के लिए कार्य कर पाएंगे पर इसके लिए हम सभी को बेटियों के महत्व को समझना होगा तभी यह संभव हो पाएगा।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर लाइन (Lines)
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर लाइन (Lines)
5- बेटी पड़ेगी तो समाज बढ़ेगा और समाज बढ़ेगा तो देश बढ़ेगा।
6- भेदभाव की छोटी सोच को हटाकर प्रेम की तरफ बढ़ने से हमारा खुद का एवं देश का विकास संभव है।
7- हम सभी को प्रणाली ना होगा कि बेटियों की सुरक्षा हमारा परम कर्तव्य है और हम इसे कैसे भी करेंगे।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ (निष्कर्ष):-

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर स्पीच ये एक ऐसा अभियान है जिसे हम सभी भारतवासियों को मिलकर साकार करना है और हमारे देश की बेटियों को बराबर का हक देना है।
 
 
आज के इस बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर भाषण के लिए यह जानकारी काफी है। 
 
अधिक जानकारी के लिए आप हमारे 
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ से संबंधित इसके पहले वाला आर्टिकल पढ़ सकते हैं जिसमें की बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर पूरी जानकारी विस्तार में प्रदान की गई है।
 
सधन्यवाद।
 
क्या आपने इसे पढ़ा:- 
 
 

5 thoughts on “Beti Bachao Beti padhao speech in hindi- बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर भाषण”

  1. Pingback: बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ निबंध - beti bachao beti padhao par nibandh

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link
Powered by Social Snap