ब्लैक फंगस पर निबंध Essay on Black Fungus in hindi (पूरी जानकारी)

Black fungus par nibandh in hindi

हेलो दोस्तों, हम आशा करते हैं कि आप सब स्वस्थ व प्रसन्न होंगे। जैसा कि आजकल हम सबके सामने कोरोना वायरस महामारी एक संकट के रूप में खड़ी है, जिससे हम सब लगातार लड़ रहे हैं।

कोविड-19 के साथ-साथ आजकल ब्लैक फंगस इंफेक्शन भी तेजी से फैल रही है। इस बीमारी को म्यूकरमायकोसिस (Mucormycosis) भी कहतें हैं। इसके भारत में भी कई मामले सामने आ चुके हैं और लगातार इन मामलों में बढ़ोतरी हो रही है ।

तो दोस्तों, आज हम ब्लैक फंगस पर निबंध (Essay on Black Fungus in hindi) पढ़ेंगे, जिसमें हम इसके लक्षण व बचाव पर भी विस्तृत चर्चा करेंगे। तो इसे अंत तक अवश्य पढ़ें-

ब्लैक फंगस इंफेक्शन क्या है?

ब्लैक फंगस इंफेक्शन एक तरह का इंफेक्शन है जिसे म्यूकरमायकोसिस (Mucormycosis) भी कहते हैं। मुख्यतः
यह इन्फेक्शन म्युकर फफूंद की वजह से पनपता है।

व्हाइट फंगस इंफेक्शन पर निबंध (पूरी जानकारी)

ब्लैक फंगस इंफेक्शन कहाँ पाया जाता हैं?

ब्लैक फंगस इंफेक्शन प्राकृतिक संसाधनों में सहायता से अपना निर्माण करता है। हमारे प्राकृतिक संसाधन जैसे कि पेड़-पौधे, मिट्टी, सड़ी हुई सब्जियां, फल, कम्पोस्ट खाद आदि में यह फंगस पाया जाता है। यह एक गंभीर इन्फेक्शन हैं।

ब्लैक फंगस इंफेक्शन कहां से फैलता है? (From Where Black Fungus Infection Spread)

ब्लैक फंगस इंफेक्शन मुख्यता का नाक से फैलता है। ज्यादातर मामलों में यह सांस के रास्ते वातावरण में मौजूद फंगस शरीर में प्रवेश करते हैं। अगर उस समय शरीर में कोई भी घाव है या कहीं भी चोट हैं तो उसकी वजह से यह इंफेक्शन पूरे शरीर में अपनी जगह बना लेता हैं।

यदि इसे शुरुआती स्टेज में नहीं रोका गया तो इससे आंखों की रोशनी जाने का भी खतरा होता है इसके अलावा इस फंगस से शरीर के किसी हिस्से के सड़ जाने की भी आशंका होती है।

ब्लैक फंगस इंफेक्शन फैलने के कारण (Reasons)

ब्लैक फंगस इंफेक्शन कोरोनावायरस से ठीक हुए मरीजों में ज्यादातर देखने को मिल रहा है। इसके पीछे कारण यह है कि कोरोना संक्रमित व्यक्तियों में इम्यूनिटी बहुत कम होती है जिसके चलते उनमें ब्लैक फंगस इंफेक्शन होने का खतरा अधिक होता है।

कोरोनावायरस से बचने के इलाज के दौरान उन्हें कई तरह की दवाई व स्टेरॉइड थेरेपी का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे कि किसी भी रोग से लड़ने की क्षमता शरीर में अधिक हो जाती है परंतु इससे कहीं ना कहीं इम्यूनिटी पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इसी कमजोर इम्यूनिटी की वजह से ही ब्लैक फंगस इंफेक्शन आज तेजी से फैल रहा है। हाल ही मे राजस्थान राज्य ने ब्लैक फंगस को महामारी घोषित किया हैं।

जानिए कोरोनावायरस की वजह से जान गवाने वाले राहुल वोहरा पर पूरी जानकारी।

ब्लैक फंगस इंफेक्शन के लक्षण (Symptoms)

ब्लैक फंगस इंफेक्शन के प्रमुख लक्षण है

  • आधे चेहरे पर सूजन दिखाई देना
  • आंखों की रोशनी कम होना
  • नाक पूरी तरीके से बंद हो जाना
  • नाक से खून आना
  • जबड़े में हल्का दर्द होना
  • दांत टूटने की आशंका होना
  • तेज बुखार होना
  • छाती में भयंकर दर्द उठना
  • त्वचा में छोटे छोटे दाने निकलना
  • सांस लेने में दिक्कत होना
  • उल्टी आना
  • मुंह के उपर या नाक के पास काले निशान पड़ना।

ब्लैक फंगस इंफेक्शन किन लोगों को होता है, क्या इसका कोरोना से कोई संबंध है?

ब्लैक फंगस इंफेक्शन उन लोगों को ज्यादा हो रहा है-

1- जिनका शुगर लेवल और ब्लड प्रेशर सदैव ज्यादा रहता है।
2- जिन कोविड मरीजों ने कोविड उपचार के दौरान स्टेरॉयड अधिक मात्रा में लिया हो।
3- किसी विशेष चीज के ट्रांसप्लांट या कैंसर के मरीज।
4- बहुत दिन तक आईसीयू में भर्ती रहे मरीज।

ब्लैक फंगल इन्फेक्शन से बचाव के उपाय (Steps to prevent Black Fungus Infection)

ब्लैक फंगल इन्फेक्शन से बचने के मुख्य उपाय हैं इन बातों को अपनाकर आप इस भयंकर इंफेक्शन से अपने आप को बचा सकते हैं-

यदि आप कोरोनावायरस की बीमारी से अभी हाल ही में ठीक हुए हैं तो अपनी सोच को एकदम सकारात्मक रखें व समय-समय पर अपनी जांच करवाते रहें वैक्सीन लगवाएं। यदि ब्लैक फंगस से संबंधित शिकायत हो तो, तुरंत डॉक्टर को संपर्क करें। इसमें लापरवाही बिल्कुल भी ना करें।

धूल-मिट्टी,कंस्ट्रक्शन साइट जैसी जगहों से दूर रहे। फुल स्लीव्स के कपड़े पहने। अपने आपको ज्यादा से ज्यादा व्यस्त रखें। दस्ट वाली जगहों से सतर्क रहें। ताजी हवा ले।

फेस को कवर करके रखें। मास्क का उपयोग जरूर करें। हाथों को सैनिटाइज करें व बार बार धोते रहे। दिन में दो बार स्नान करें। चेहरे को समय-समय पर धोए।

लापरवाही करना बिलकुल छोड़ दे। यह ऐसा समय है जिसमें हमें सबसे ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है। तो यदि इसके कोई भी लक्षण दिखाई दे, तो उसे शुरुआत में ही रोक देना जरूरी है नहीं तो मरीज की जान भी जा सकती है।

यास तूफान पर निबंध (पूर जानकारी)

डॉक्टर द्वारा बताई गई सभी सलाह ओं का दृढ़ता से पालन करें क्योंकि एक समझदारी आपको बहुत बड़ी मुसीबत से बचा सकती है।

एक ही ऑक्सीजन ट्यूबिंग का इस्तेमाल बार-बार करना सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। इसलिए समय-समय पर ऑक्सीजन ट्यूब का बदलाव करते रहें।

आज हमने क्या सीखा?

तो दोस्तों, आज हमने ब्लैक फंगस पर निबंध (Essay on Black Fungus in hindi) पढ़ा जिसमें सभी जरूरी बातों को जाना। हम आशा करते हैं कि आपको यह जानकारी जरूर सहायता करेगी।

यदि पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों, रिश्तेदारों व सगे संबंधियों में भी अवश्य शेयर करें ताकि उन्हें भी यह जानकारी का लाभ मिले। तो मिलते हैं हमारे अगले आर्टिकल में तब तक स्वस्थ रहें मस्त रहें।

FAQ

1- ब्लैक फंगस कैसा होता है?

Ans- ब्लैक फंगस एक तरह का इंफेक्शन है जोकि इम्यूनिटी कम होने पर तेजी से फैलता है इससे आंखों की रोशनी चले जाने व शरीर के किसी अंग के सड़ने की आशंका होती हैं।

2- एक संक्रमित को कितने दिन ब्लैक फंगस का डर रहता है?

Ans- एक संक्रमित व्यक्ति को तब तक इस इन्फेक्शन का डर रहेगा जब तक कि उसका इम्यूनिटी सिस्टम फिर से मजबूत ना हो जाए।

3- क्या ब्लैक फन्गस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है?

Ans- नहीं, विशेषज्ञों का मानना है कि यह इंफेक्शन एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलता।

4- क्या ब्लैक फंगस के लिए वैक्सीन मौजूद है?

Ans- नहीं ब्लैक फंगस इंफेक्शन के लिए अलग से कोई वैक्सीन मौजूद नहीं है। यदि आपको कोविड की शिकायत है तो उसके लिए कोविशील्ड और कोवैक्सीन जैसी मौजूद है।

5- ब्लैक फन्गस में क्या खाना चाहिए?

Ans- ब्लैक फंगस इंफेक्शन के दौरान आपको हरी सब्जियां फल दूध एवं वह सारे उत्पाद जिससे कि आपकी immunity बढ़े उसे अपने खाने में लेना चाहिए।  इससे आप जल्द ही सभी रोगो से मुक्त हो जाएंगे।

6 किस राज्य सरकार ने ब्लैक फंगस को महामारी घोषित किया है?

Ans- हाल ही में राजस्थान कि राज्य सरकार ने ब्लैक फंगस को महामारी घोषित किया है।

क्या आपने इसे पढ़ा-

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध

डिजिटल इंडिया पर निबंध

जल प्रदूषण पर निबंध

वायु प्रदूषण पर निबंध

वृक्षारोपण पर निबंध

2 thoughts on “ब्लैक फंगस पर निबंध Essay on Black Fungus in hindi (पूरी जानकारी)”

  1. Pingback: Covaxin Ke Fayde Par Nibandh कोवैक्सीन के फायदे पर निबंध

  2. Pingback: कोवैक्सीन और कोविशील्ड वैक्सीन में क्या अंतर है? | Covaxin Vs Covishield in hindi |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link
Powered by Social Snap