कोविशील्ड वैक्सीन के फायदे पर निबंध | Essay on Covishield Vaccine in Hindi 2021

Covishield Vaccine क्या है, इसके फायदे और साइड इफेक्ट्स, पूरी जानकारी

हेलो दोस्तों, हम सब कोरोनावायरस सें बुरी तरीके से जूझ रहे हैं। पूरे विश्व में यह बीमारी ने अपने पांव पसार के रखे हैं। जिसे देखो वही आजकल कोरोनावायरस पॉजिटिव निकल रहा है।इस समस्या से बचने का सटीक समाधान अभी भी किसी के पास नहीं है। इससे बचने के लिए अब 45+ और 18+ की उम्र के व्यक्तियों का वैक्सीनेशन अब शुरू कर दिया गया है जिसमें मुख्य रूप से कोविशील्ड और कोवैक्सीन जैसी वैक्सीन का उपयोग किया जा रहा है। तो, आज हम इस आर्टिकल में जानेंगे कि कोविशील्ड वैक्सीन के फायदे पर निबंध (Essay on Covishield Vaccine in Hindi) हिंदी में।तो यदि आप भी कोविशिल्ड वैक्सीन को लगवाने की सोच रहे हैं, तो इस आर्टिकल को एक बार अंत तक जरूर पढ़ें और हमें अपनी राय भी अवश्य दें। तो चलिए शुरू करते हैं।

Table of Contents Close

कोविशील्ड वैक्सीन क्या है?

कोविशिल्ड वैक्सीन एक तरह की वैक्सीन है जोकि कोरोनावायरस जैसी घातक बीमारी के प्रभाव को काफी हद तक शून्य करने के लिए इस्तेमाल की जा रही है।

कोविशिल्ड वैक्सीन का निर्माण देश की सबसे बड़ी निर्माता कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के द्वारा किया जा रहा है। यह इंस्टीट्यूट पुणे में स्थित है। यह वैक्सीन दोज के अंतर पर लगाई जाएंगी। दोनों दोज के बीच छह से आठहफ्तों तक की दूरी होना अत्यंत आवश्यक है।

क्या आपने इसे पढ़ा – कोरोना वैक्सीन पर निबंध

कोविशील्डवैक्सीन किस चीज की बनी है?

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कोविशील्ड वैक्सीन को लेकर विस्तृत जानकारी प्रदान की है। आइए जानते हैं की किन-किन चीजों से मिलकर बनी है कोविशील्ड वैक्सीन-मैग्निशियम क्लोराइड, मोनोहाइड्रेट, एल-हिस्टीडीन हाइड्रोक्लोराइड, एल-हिस्टीडीन, पॉलिजॉर्बेट 80, इथेनॉल डाइसोडियम एडिटेड डाई हाइड्राइट, हेक्साहाइड्रेट एवं सोडियम क्लोराइड।

क्या आपने इसे पढ़ा- नाइट कर्फ्यू पर निबंध

कोविशिल्ड वैक्सीन लगवाने के फायदे क्या-क्या है? (Benefits)

2020 में आए इस कोरोनावायरस ने पहले तो पूरे 2020 को तहस-नहस कर दिया और अब यहां 2021 को भी अपने गिरफ्त में लेने के लिए वापस आ चुका है। तो इससे बचने के लिए पूरे विश्व को सचेत व वैक्सीनेटेड होना बहुत जरूरी हो गया है। यदि आपको फिर भी कोविशिल्ड वैक्सीन लगवाने से डर लगता है, तो बिल्कुल भी डरे नहीं।

आइए जानते हैं कि सबसे ज्यादा इस्तेमाल हो रही कोविशिल्ड वैक्सीन के अद्भुत फायदे (Benefits) कौन-कौन से हैं-

कोविशिल्ड वैक्सीन इम्यूनिटी को बढ़ाती है?

कोविशील्डवैक्सीन एक रोग प्रतिरोधक क्षमता को हमारे शरीर में विकसित कर हमारे इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत करती है जिससे कि हमारा शरीर कोरोनावायरस व अन्य घातक बीमारियों से लड़ने में सामान्यता से अधिक सक्षम हो जाता है।

कोविशील्ड वैक्सीन कोरोनावायरस होने से रोकती है

एक प्रसिद्ध डॉक्टर का ऐसा मानना है कि भारत में लगातार कोरोनावायरस के मामले बढ़ने के पीछे एक कारण यह भी है कि लोग वैक्सीन पर भरोसा नहीं करते और वैक्सीन नहीं लगवाते। वहीं दूसरी ओर आपको यह जानकर हैरानी होगी कि को भीषण वैक्सीन हमें कोरोनावायरस होने से काफी हद तक रूकती है। इसलिए वैक्सीनेशन तुरंत करवाएं। क्योंकि जब हर नागरिक स्वस्थ रहेगा, तभी देश स्वस्थ रहेगा।

लंबे समय तक एंटीबॉडीज शरीर में बना कर रखती है?

कोविशील्ड वैक्सीन के दोनों दोज सफलतापूर्वक लगवाने से एक व्यक्ति के शरीर में वैक्सीन लगने के 6 से 8 महीने बाद तक एंटीबॉडीज मौजूद रहते हैं जिससे कि शरीर का इम्यूनिटी सिस्टम मजबूती के साथ कोरोनावायरस से लड़ सकता है।

क्या आपने इसे पढ़ा– वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करें?

अस्पताल के चक्कर लगाने से बचाती है

कोविशील्ड वैक्सीन आपको कोरोनावायरस जैसी घातक बीमारी से पीड़ित होकर अस्पतालों के दर-दर चक्कर लगाने से बचाती है। इसलिए इससे बेहतर कुछ नहीं है कि आप वैक्सीन लगवा कर अपने आप को सुरक्षित करें और दूसरों को भी सलाह दे।

आत्मविश्वास को बनाए रखती है

हाल ही में इस घातक बीमारी ने करोड़ों लोगों की जान ले ली है तो ऐसे में अपने आत्मविश्वास को इस बीमारी से लड़ने के प्रति बनाए रखना बहुत मुश्किल है।

तो ऐसी स्थिति में कोविशिल्ड वैक्सीन आपके आत्मविश्वास को डगमगाने नहीं देती और शरीर में स्फूर्ति भी प्रदान करती हैं।

कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने के साइड इफेक्ट्स (Side-Effects)

जैसे प्रत्येक चीज के फायदे व साइड इफेक्ट्स दोनों होते हैं ठीक उसी प्रकार को विशेष वैक्सीन लगवाने के कुछ साइड इफैक्ट्स भी सामने आए हैं हालांकि वह अस्थाई है और बहुत जल्दी ही सही हो जाते हैं।

तो आइए जानते हैं कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने के साइड-इफैक्ट्स (Major Side Effects) क्या-क्या क्या है?

1- कोविशील्ड वैक्सीन के पहले डोज को लगवाने पर हल्का बुखार, चक्कर और कमजोरी जैसे लक्षण सामने आए हैं।

2- किसी-किसी किसी व्यक्तियों में मांसपेशियों में दर्द या जोड़ों में दर्द, थकावट, इंजेक्शन लगी जगह पर गांठ बनने जैसी शिकायत है।

3- तेज बुखार, गले में खराश, सर्दी जुकाम, हल्की खांसी व कपकपी जैसे लक्षण भी पता लगे हैं।

4- शरीर में अत्यधिक पसीना आना, त्वचा में खुजली हल्के दाग जैसे दिखाई देना।

5- कोविशील्ड वैक्सीन के निर्माता सीरम इंस्टीट्यूट ने यह भी कहा है कि वैक्सीन के और भी अप्रत्याशित दुष्प्रभाव हो सकते हैं। किसी भी दुष्प्रभाव के बारे में पता लगने पर आप डॉक्टर से परामर्श ले सकते हैं। यह दुष्प्रभाव अस्थायी है इसलिए इन से डरने की जरूरत बिल्कुल भी नहीं है।

आज हमने क्या सीखा?

तो दोस्तों यहां हमने कोविशील्ड वैक्सीन के फायदे पर निबंध (Essay on Covishield Vaccine in Hindi 2021) को लेकर महत्वपूर्ण जानकारी आपको साथ साझा की। यदि इससे संबंधित आपके अन्य सवाल हो तो आप कमेंट सेक्शन में बेझिझक होकर पूछ सकते हैं।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह जानकारी सहायक लगी होगी। इसे अपने दोस्तों रिश्तेदारों व सगे संबंधियों के साथ भी अवश्य शेयर करें। मिलते हैं दूसरे आर्टिकल में तब तक स्वस्थ रहें मस्त रहें।

FAQ

1- इंटरनेशनल ट्रिप में कौन सी वक्सीनशन एक्सेप्ट होगी कोविशील्ड या कोवैक्सीन ?

Ans- वैक्सीनेशन को लेकर आप उपयोग में लाई गई दोनों में से किसी भी वैक्सीन को international trip के लिए लगवा सकते हैं। इसे लेकर कोई अलग से नियम नहीं बनाया गया है।

2- कोविशील्ड वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन और अपने पास के सेंटर कैसे choose करे?

Ans- कोविशील्ड वैक्सीन के लिए आप आरोग्य सेतु, और Co-win जैसे ऐप का इस्तेमाल कर सकते हैं। आप नीचे लिंक पर क्लिक करके भी कोविशील्ड वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन और अपने पास बनाए गए सेंटर को ट्रेस कर सकते हैं।
Click here

3- कोविशील्ड वैक्सीन का एक डोज लिया और दूसरा डोज नहीं लिया तो क्या होगा?

Ans- भारतीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा बताया गया है कि यदि आपको कोविशील्ड वैक्सीन का पहला डोज लगवाते हैं और दूसरा डोज नहीं लगाते हैं तो वैक्सीन उस तरह से प्रभाव नहीं करेगी जिस तरह से उसे करना चाहिए। वैक्सीन के कारगर साबित होने के लिए दोनों दोज का लगवाना अनिवार्य है।

Q4- कोविशील्ड वैक्सीन की पहली डोज लेने के बाद कोरोना का खतरा कितना कम हो जाता है?

Ans- कोविशील्ड वैक्सीन की पहली डोज लेने के बाद कोरोनावायरस काफी हद तक कम हो जाता है क्योंकि वैक्सीन के एंटीबॉडीज हमारे शरीर में पहुंच जाते हैं और इम्यूनिटी सिस्टम को धीरे-धीरे मजबूत करने लगते हैं जिससे कि कोरोनावायरस के खतरे का संक्रमण कम हो जाता है।

5- कोविशील्ड वैक्सीन ब्लड प्रेशर, डायबिटीज (शुगर) के मरीज़ और प्रेग्नेंट लेडीज को लगा सकते है क्या?

Ans5- पहले से किसी बीमारी से ग्रसित मरीजों को तो तुरंत लगवाना चाहिए क्योंकि इन में कोरोनावायरस के संक्रमण का खतरा सामान्य व्यक्ति के मुकाबले दुगना होता है।
गर्भवती महिलाएं डॉक्टर से परामर्श लेने के बाद ही कोविशील्ड वैक्सीन लगवाएं।

6- क्या पहला वैक्सीन कोविशील्डऔर सेकंड डोज कोवैक्सीन की ली जा सकती है?

Ans6- नहीं। आपने जिस वैक्सीन का पहला डोज लिया हो, उसी वैक्सीन का दूसरा डोज लेना आवश्यक है।

Share via
Copy link
Powered by Social Snap