Soil Pollution Par Nibandh | मृदा प्रदूषण पर निबंध | Essay on Soil Pollution in hindi

हेलो दोस्तों आज हम बात करेंगे भूमि प्रदूषण पे की भूमि प्रदूषण कैसे होता है और किस किस कारण से होता है। आपके स्कूल या कॉलेज में मृदा प्रदूषण पर निबंध या भूमि प्रदूषण पर निबंध/ Essay On Soil Pollution in Hindi लिखने को आता है तो आप हमारा ये भूमि प्रदूषण पर निबंध/ Soil Pollution par Nibandh देख सकते हैं। इस लेख में आपको मृदा/भूमि प्रदूषण पर डिटेल में जानकारी दी जाएगी और आपका भूमि प्रदूषण को लेकर सभी संशय दूर हो जाएगा। तो आइए शुरू करते हैं।

पेड़ लगाओ पेड़ बचाओ पर निबंध

मृदा/भूमि प्रदूषण पर निबंध (Soil Pollution par nibandh in hindi):-

मृदा प्रदूषण क्या है|मृदा प्रदूषण प्रस्तावना:-

मृदा प्रदूषण की बात करें तो यह जमीन पर फैली गंदगी, कूड़ा कचरा, के वजह से होता है। हम मनुष्य जो कूड़ा कचरा का ढेर एक जगह लगा देते हैं। उसी कारण से मृदा प्रदूषण होता है। जो हम लोगों के फैलाए हुए प्रदूषण से धरती माता को गन्दा किया है उससे धरती माता को बहुत नुकसान हुआ है जिस कारण मृदा प्रदूषण जैसी भयंकर समस्या का सामना हम सभी कर रहे हैं।

भूमि प्रदूषण पर निबंध
भूमि प्रदूषण पर निबंध

भूमि प्रदूषण दिन प्रतिदिन भयंकर रूप धारण करता जा रहा है अगर भूमि प्रदूषण का उपाय समय रहते नहीं किया गया तो यह विकराल रूप धारण कर लेगा और हमारी उपजाऊ मिट्टी को खराब वा दूषित करता ही चला जाएगा। आगे हम विस्तार से जाने के इसको रोकथाम के क्या-क्या उपाय हो सकते है।

स्वस्थ जीवन जीने के लिए सबसे महत्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधन मिट्टी को भी माना जाता है। जिस पर सिर्फ हम ही नहीं अपितु छोटे-छोटे कीटो का भी रहते हैं और साथ ही साथ पेड़ पौधे भी मिट्टी से ही जीवन शुरू करते हैं। जीवन चक्र को बनाए रखने के लिए मिट्टी का योगदान सबसे ऊपर है जहां से गेहूं, चावल, फसल तथा अन्य खान पान की चीजे का उत्पादन होता है।

मृदा प्रदूषण के कारण:-

पृथ्वी पर सबसे महत्वपूर्ण संसाधन मिट्टी को ही माना जाता है। जो कि मानव जाति ही नहीं अपितु पशु पक्षियों की भी अप्रत्यक्ष रूप से सहायता करती है। रसायनिक खादों, कीटनाशक दवाईयां, और जो औद्योगिक कचरे उत्पन्न हो रहे हैं ना उस कारण से ही मृदा या भूमि प्रदूषण बढ़ता जा रहा है। जहरीले रसायनों के कारण ही हमारी उपजाऊ मिट्टी बुरी तरह से प्रदूषित हो रही है और उसकी पोषक्ता भी कम होती जा रही है।

पेड़ो/वृक्षों पर निबंध

मानव जीवन को सरल बनाने के लिए फसलों में उत्पादन और अन्य तकनीकी संसाधनों की आवश्यकता बढ़ जाती है। कई अत्यधिक प्रभावी उर्वरक बाजार में उपलब्ध है जो फसल उत्पादन को बेहतर बनाने के लिए अपने आप को बहुत अच्छा बताते हैं लेकिन फसल पर इनका छिड़काव करते ही पूरा उर्वक मिट्टी को खराब करता है जिसकी वजह से भूमि प्रदूषण/मृदा प्रदूषण फैलता है।

मिट्टी के इतना ज्यादा दूषित हो जाने के कारण उसकी उत्पादकता में निरंतर कमी आने लगती है।

धरती माता पर निबंध 

मृदा प्रदूषण/भूमि प्रदूषण के दुष्प्रभाव:-

1- किसान तरह तरह की कीटनाशक दवाइयां, जैसे फंगीसाइड का अपने खेतों में कीट को मारने के लिए इस्तेमाल करते हैं। ये कीटनाशक भी काफी ज्यादा जहरीले होते हैं और भूमि तथा हवा दोनों को प्रदूषित करके पर्यावरण में उनके दुष्प्रभावों को फैलाते हैं।

2- जो भी जहरीले प्रदूषक होते हैं वो बहुत खतरनाक होते हैं और मिट्टी के जैविक, रसायनिक, भौतिक गुणों पर निरंतर प्रभाव डालते रहते हैं।

पृथ्वी बचाओ पर निबंध इन हिंदी 

3- मानव अपनी विभिन्न जरूरतों को पूरा करने के लिए वनों की कटाई बड़े तेज़ी से कर रही हैं। जबकि पेड़ हमारी मिट्टी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है क्युकी वे विभिन्न पोशाकों को बनाए रखने के लिए मदद करते हैं। लेकिन शहरीकरण होता जा रहा है घर बनते जा रहे हैं और पेड़ो को काटा जा रहा है। जिसका दुष्परिणाम हमारी पृथ्वी पर पड़ रहा है।

4- भूमि प्रदूषण के बढ़ने का एक मुख्य कारण घरेलू अपशिष्ट भी है। घरों में प्रतिदिन की सफाई करने के बाद गंदगी निकलती है। इसमें एक ओर धूल मिट्टी निकलती है दूसरी ओर कागज, कपड़ा, प्लास्टिक, लकड़ी, धातु के टुकड़े आदि भी होते हैं। जो मिट्टी को दूषित करते जा रहे हैं।

प्लास्टिक पॉलिथीन पर निबंध इन हिंदी

सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि सब्जियों के बच्चे भाग  जैसे फलो के छिलके, चाय की पत्ती, अन्य सड़े गले पदार्थ, सूखे फूल पत्तियां इत्यादि भी शामिल है। यह सभी प्रकार के दूषित पदार्थ एक जगह एकत्र कर कर फेंक दिया जाता है जो हमारे मिट्टी को केवल दूषित ही करता है और इसका सीधा प्रभाव यह पड़ता है की भूमि प्रदूषण होता है।

पृथ्वी दिवस के महत्व पर निबंध इन 2021

मृदा प्रदूषण पर निबंध
मृदा प्रदूषण पर निबंध

मृदा प्रदूषण/भूमि प्रदूषण के निवारण:-

मृदा प्रदूषण/भूमि प्रदूषण पर नियंत्रण करने के अनेकों उपाय है आइए जानते हैं कि वह क्या है नीचे कुछ बिंदुओं में हम ने स्पष्ट किया है कि किस तरीके से हम भूमि प्रदूषण को रोक सकते हैं:-

  • जहां भी हो सके नॉन बायोडिग्रेडेबल उत्पादों की बजाय बायोडिग्रेडेबल उत्पादों का इस्तेमाल करे और मिट्टी प्रदूषण/भूमि प्रदूषण को होने से रुके। क्युकी बायोडिग्रेडेबल उत्पादों को बड़ी आसानी से निपटाया का सकता है।
  • एक उपाय यह भी हो सकता है कि जब आप खरीदी करने जाए तो कपड़े का थैला लेकर जाए। क्युकी ये फिर से काम में लाया जा सकता है।
  • घर में दो अलग डस्टबिन रखे जिसमें सूखा और गीला कचरा अलग अलग रखिए जिसको अलग अलग निपटना आसान हो जाता है।
  • भारत सरकार ने इसको रोकने के लिए पहले ही अभियान चालू कर दिया है। लेकिन हम भी अपना एक छोटा हाथ में दे सकते हैं और उनके इस अभियान में अपनी भूमिका निभा सकते हैं।
  • घर का जो भी कूड़ा कचरा होता है चाहे वह प्लास्टिक हो, पेपर हो, किसी भी तरह का अपशिष्ट पदार्थ हो उसको कचरे के ढेर में ही डालें या कचरे की ट्रॉली में ही डाले जिससे वो उचित स्थान पर ही जाए।
  • सरकार ने भूमि प्रदूषण को कम करने के लिए पूरे देश में पूरे राज्य में गली में छोटे छोटे क्षेत्रों में हरे डब्बे और नीले डब्बे रखे हैं। ताकि जो भी कूड़ा कचरा है वह उसी में फेंका जाए।
  • पॉलिथीन और प्लास्टिक का उपयोग बिलकुल ना के बराबर करिए क्युकी प्लास्टिक को दुबारा उपयोग में नहीं लाया जा सकता है।
  • कागजों का प्रयोग थोड़ा सोच समझ कर ही करें क्योंकि प्रत्येक वर्ष कई सारे पेड़ों को काटकर ही कागज बनाए जाते हैं। इसलिए कागजों का इस्तेमाल बहुत ही सावधानी पूर्वक करें खराब ना करें।
  • जिस तरह से वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण और पर्यावरण प्रदूषण फैल चुका है उसी प्रकार भूमि प्रदूषण भी फैल चुका है और इसको कम करने के लिए टिश्यू , पेपर वाइप्स, की बजाय कपड़े या  फिर से उपयोग में आने वाली चिजो का इस्तेमाल करे जैसे- डस्टर, झाड़ू इत्यादि चिजॊ का इस्तेमाल करे।
  • घरों का कचरा बाहर खुले में कभी भी नहीं फेखना चाहिए और ऐसी चीजों का उपयोग करना चाहिए जिसे हम दोबारा अपने उपयोग में ला सकें हमे रिसाइकिल की आदत अपनानी चाहिए।
  • हमें हवा को भी कम दूषित करना चाहिए ताकि अम्लीय वर्षा ना हो।

निष्कर्ष/उपसंहार:-

मृदा प्रदूषण में हमने जाना कि किस तरीके से हमारी मिट्टी में अनेक प्रकार के अपशिष्ट धातु  मिल रहे हैं और भूमि को दूषित कर रहे हैं। रसायनिक धातु, कीटनाशक जहरीली दवाइयां, और घरों से निकलने वाला कूड़ा कचरा इसका प्रमुख कारण है। जिसे जल्द से जल्द रोकना होगा और भूमि प्रदूषण पर निबंध | मृदा प्रदूषण पर निबंध में हमने इसको रोकने के लिए अनेकों उपाय ऊपर बिंदुओं में बता दिए हैं।

हम आशा करते हैं आपको हमारा मृदा प्रदूषण पर निबंध|भूमि प्रदूषण पर निबंध|Soil Pollution par essay/ Essay on Soil Pollution in Hindi अच्छा लगा होगा। अगर अच्छा लगा हो तो इसे शेयर अवश्य करे। 

क्या आपने इन्हे पढ़ा:-

3 thoughts on “Soil Pollution Par Nibandh | मृदा प्रदूषण पर निबंध | Essay on Soil Pollution in hindi”

  1. Pingback: पर्यावरण प्रदूषण और इसके प्रभाव पर निबंध- Effect of environmental pollution in hindi - Study Bhaiya

  2. Pingback: प्रदूषण की समस्या पर निबंध | pradushan ki samasya par nibandh - Study Bhaiya

  3. Pingback: प्लास्टिक पॉलिथीन पर निबंध इन हिंदी | Essay on Plastic Polythene in hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link
Powered by Social Snap