Essay on terrorism in hindi | आतंकवाद पर निबंध

आतंकवाद पर निबंध इन हिंदी

हेल्लो दोस्तो, आज के इस लेख में हम आपको Essay on terrorism in hindi (आतंकवाद पर निबंध) के बारे में आपको पूरी जानकारी देंगे। ये किसी भी क्लास के स्टूडेंट 6,7,8,9, to 12 के लिए है उसके अलावा जो कॉम्पटीशन के एग्जाम जैसे SSC, UPSC, UPSSSC व अन्य की तैयारी कर रहे हैं, वे भी इसका लाभ उठा सकते हैं।

आतंकवाद पर निबंध

प्रस्तावना

आतंकवाद एक ऐसा सरकारी मुद्दा है जिसे हर एक इंसान, सरकार, और सेना सभी परेशान है। विभिन्न क्षेत्रों के सामाजिक संगठनों , राजनैतिक संगठनों और व्यापारिक उद्योगों के द्वारा आतंवाद को अंजाम दिया जा रहा है, जोकि मानव जीवन और सरकार के लिए काफी बड़ी समस्या बन चुकी है। इन्हीं संगठनों का इस्तेमाल कर के बड़ी आसानी से लक्ष्य की प्राप्ति की जा रही है और जो लोग या फिर लोगो का समूह इनका समर्थन करता है या साथ देता है। उन्हें अतांवादी कहते है।

आतंकवाद पूरी तरह से एक गैरकानूनी तरीका है जिससे मानव जीवन को हानि पहुंचती है और उन्हें डराया धमकाया जाता है। किसी भी देश के लिए ये अभिशाप से कम नहीं है बल्कि उससे ज्यादा ही है। आतंकवाद एक सरकारी मुद्दा बन चुका है, जिसका इस्तेमाल कर के लोग अपने मनचाही चीजों को करते हैं और गलत चीजो को अंजाम देते हैं।

क्यों फैल रहा है आतंकवाद? (उद्देश्य)

लोगो मे डर फैलाने के लिए और उन्हें पूरी तरह से कमजोर करने के लिए इसका प्रयोग किया जा रहा है, जिससे आतंकवादियों की अपनी अलग ही सत्ता हो जाए और वो अपनी मन चाही चीज को बड़ी सफलता से पूर्ण कर पाए और ये दोबारा से राष्ट्र पर राज कर सकें।

आतंकवाद को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सुलझाने की काफी ज्यादा जरूरत है। लोगो को डराने के अलावा सरकार की सत्ता को गिराने के लिए भी इसका इस्तेमाल जोरो-शोरो से होता है। ये हमारे राष्ट्र को उचित विकास से कई साल पीछे ढकेल देता है।

आतंकवाद के कारण

आतंकवादी जो होते हैं वो हमारी तरह ही आम इंसान होते है और दूसरे के द्वारा उनके साथ किए गए गलत व्यवहार या उनके साथ कुछ ग़लत घटित हुई घटनाओं या प्राकृतिक आपदाओं के कारण वो अपने दिमाग पर नियंत्रण नहीं कर पाते हैं और आतंकवादी समूह में शामिल होकर इसको बढ़ावा देते हैं।

आतंकवाद के प्रभाव

आतंकवाद के बड़े ही घातक प्रभाव है आइए नीचे दी गई बिंदुओं में स्पष्ट रूप से देख लेते हैं –

• देश के युवाओं पर प्रभाव

देश के युवा हालत संगति में पड़कर अपनी मनचाही इच्छा को गलत और गैर कानूनी ढंग से पूरा करते हैं जिसका सीधा प्रभाव युवाओं के भविष्य के साथ साथ देश के भविष्य पर भी आ जाता है।

• देश के लोगो पर प्रभाव

आतंकवाद का कोई नियम या कानून नहीं होता वे अपने काम को अंजाम देने के लिए किसी भी सीमा को पार कर देते है और बेचारे निर्दोष लोगो के समूह और समाज पर हमला करते हैं जोकि मानव जाति के लिए बहुत बड़ा खतरा है। ये अपने स्वार्थ के लिए किसी का भी गला घोट सकते हैं और कभी नहीं अपने दोस्त, परिवार , बच्चे, बूढ़े, लोगो के लिए समझौता नहीं करते।
सिर्फ लोगो की भीड मे बम गिराना चाहते हैं।
जिसके डर से आम आदमी अपने घर से बाहर तक नहीं निकाल पाता है।

सरकार पर प्रभाव

ये अपनी बात मनवाने के लिए सरकार पर भी दबाव बनाते हैं। जिसके चलते इनकी कूटनीति के आगे सरकार को विवश होना पड़ता है और इसका गहरा प्रभाव सरकार पर भी पड़ता है।

मराठी में निबंध पढ़ने के लिए click Here

कैसे बढ़ रहा है आतंकवाद?

ऐसे लोग जिनके साथ गलत हो रहा होता है या फिर किसी बड़ी प्राकृतिक आपदा में जिनके साथ बुरा घटित हुआ होता है वे लोग ही अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए इस गलत समूह के गिरोह में जुड़ कर अपनी ज़िन्दगी दाव पर लगाकर गलत कार्य को बढ़ावा देता है।

अपनी इच्छाओं को सही तरीके से पूरा ना कर के गलत और गैर कानूनी तरीके से उसे पूरा करने कि कोशिश करते हैं और उन्हें वहां पर उनकी इच्छाओं को पूरा करने का पूर्ण विश्वास दिलाया जाता है जिसकी वजह से वे एक साथ मिलकर आतंकवादी समूह बनाते हैं जोकि  अपने ही राष्ट्र, समाज, और मानव समुदाय से लड़ता है। आतंकवाद में देश के युवा ही ज्यादा फसते हैं और अपने ही विकास और वृद्धि को प्रभावित करते हैं और देश के युवाओं पर अंग्रेज़ो को तरह राज कर रहा है।

आतंकवाद को रोकने के उपाय

आतंकवाद को रोकने के लिए देश के युवाओं को उचित ढंग से सोच समझ कर कार्य करना चाहिए। मां बाप भाई बहन के साथ मिलकर अपने कार्य को करना चाहिए गलत कार्य की पूर्ति करने के लिए कोई ग़लत तरीका नहीं अपनाना चाहिए। सरकार को अपने और लोगो के मतभेदों को शांतिपूर्ण तरीके से सुलझाना चाहिए। देश के युवाओं को देशभक्ति का ज्ञान देने के लिए उचित कदम उठाने चाहिए।

उपसंहार/निष्कर्ष

आज के इस लेख में हमने आपको Essay on terrorism in hindi (आतंकवाद पर निबंध) के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश करी है। हम उम्मीद करते हैं आपको हमारा ये लेख पसंद आया होगा। पसंद आया हो तो इसे शेयर कर के support अवश्य करे। हम हमेशा आपके लिए ऐसे महत्वपूर्ण लेख प्रस्तुत करते रहेंगे।

FAQ

1- टेरर फंडिंग कैसे रोका जा सकता है?

टेरर फंडिंग बड़े ट्रस्ट एवं चैरिटी की सहायता से किया जाता है। टेरर फंडिंग को रोकना इतना आसान नहीं है। यदि प्रत्येक व्यक्ति सही सोच व शांति के साथ जीवन व्यतीत करने का सोच ले तो टेरर फंडिंग अपने आप रोकी जा सकती है अन्यथा यह पूरे विश्व का समूल नाश कर देगी।

2- आतंकवाद और विद्रोह में क्या अंतर है?

जब किसी राज्य का व्यक्ति अपने उपद्रव से अपने ही राज्य को हानि पहुंचाए, तो वह विद्रोह की श्रेणी में आता है परंतु जब किसी और देश का व्यक्ति या संगठन किसी दूसरे देश को हानि पहुंचाए तो वह आतंकवाद कहलाता है।

3- क्या जम्मू कश्मीर में आर्टिकल 370 हटने से आतंकवाद कम हो जाएगा?

हां, एक तरह से जम्मू कश्मीर में बढ़ रहे आतंकवाद के मामलों को रोकने के लिए एवं वहां के हालात को सरल बनाने के लिए आर्टिकल 370 को हटाया गया हैं।

4- भारत सरकार किस राज्य में आतंकवाद विरोधी दस्ते (Anti Terror Squad ATS) गठन की मंजूरी दी थी?

भारत सरकार ने उत्तर प्रदेश राज्य में 2007 में आतंकवाद विरोधी दस्ते का गठन करने की मंजूरी दी थी।उत्तर प्रदेश राज्य में बढ़ते हुए आतंकवाद की वजह से भारत सरकार ने यह फैसला लिया था।

5- आतंकवाद विरोधी दिवस कब मनाया जाता है?

21 मई को राष्ट्रीय आतंकवादी विरोधी दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह आतंकवाद को रोकने व इसकी हानि पर जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है।

क्या आपने इसे पढ़ा


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link
Powered by Social Snap