हेमिस त्यौहार पर निबंध | Hemis Festival Essay in Hindi 2021

हेलो दोस्तों, हम आशा करते हैं कि आप स्वस्थ व मस्त होंगे। जैसा कि हम सब जानते हैं कि हमारा देश त्यौहारों का देश है। यहां पर हर दिन कोई न कोई त्यौहार मनाया ही जाता है। इन त्योहारों का अलग ही रंग व उल्लास व्यक्तियों में देखने को मिलता है। इसी प्रसंग में आज हम लोग हेमिस त्यौहार पर निबंध (Hemis Festival Essay in hindi) पढ़ेंगे । इस आर्टिकल में हम हेमिस त्यौहार क्या है, कब, कैसे और क्यों मनाया जाता हैं , इस पर विस्तार में चर्चा करेंगे तो चलिए शुरू करते हैं।

हेमिस त्यौहार क्या हैं?

भारत देश त्योहारों व संस्कृति का देश हैं। यहां पर हर धर्म के त्योहारों को धूमधाम से मनाया जाता है। ऐसा ही एक त्यौहार हेमिस त्यौहार के नाम से प्रसिद्ध है। यह त्यौहार बहुत ही लोकप्रिय व अनोखा है। हेमिस त्यौहार लद्दाख में मनाया जाता है। हेमिस त्योहार का आयोजन लद्दाख में बौद्ध धर्म के सबसे बड़े मठ हेमिस गोम्पा में किया जाता है।

Hemis Festival 2021

बहुचर्चित हेमिस गोम्पा एक बहुत ही अनोखा स्थान है। यह चारों ओर से पर्वत के चट्टानों से घिरा हुआ है। यह त्यौहार मुख्य रूप से संत पद्म्संभवा के जन्मदिन पर उन्हें सम्मान देने के लिए मनाया जाता है।

संत पद्म्संभवा का परिचय

संत पद्म्संभवा एक बहुत ही प्रसिद्ध बोद्ध धर्म (Buddha Religion) के व्याख्याता थे। ऐसा कहा जाता है कि यह महात्मा बुद्ध के बाद दूसरे सबसे बड़े बौद्ध गुरु थे। यह तिब्बत में चर्चित तांत्रिक बौद्धिजम के संस्थापक भी थे। इन्होंने विशेषकर बौद्ध धर्म के प्रसार में मुख्य भूमिका निभाई थी। इन्हें मुख्य रूप से तिब्बत व भूटान में बौद्ध धर्म का प्रचार-प्रसार करने के लिए जाना जाता है। यह एक बहुत ही बड़े विद्वान व पुण्यात्मा थे।

हेमिस त्यौहार कब मनाया जाता हैं? (Hemis Festival 2021 in hindi)

हेमिस त्यौहार का आयोजन मुख्य रुप से जून या जुलाई के महीने में किया जाता है। यह 2 दिनों तक चलता है। हेमिस त्यौहार 2021 मे 20 जून (रविवार)व 21 जून (सोमवार)को मनाया जाएगा। इस त्यौहार में शामिल होने के लिए दूर-दूर से लोग लद्दाख आते हैं यह सच में लद्दाख के कुंभ ‘की तरह है।

हेमिस का इतिहास (Origin)

हेमिस मठ 11 वीं शताब्दी के पूर्व ही अस्तित्व में हुआ करता था परंतुसन् 1962 में सेन्ग नाम्ज्ञाल के नाम एक शासक ने अपने शासनकाल के दौरान हेमिस मठ का फिर से निर्माण करवाया था।यह लद्दाख में स्थित है और अपनी खूबसूरती के लिए हमेशा ही चर्चा में रहता है। हेमिस फेस्टिवल को दो भागों में विभाजित किया गया है- जिसमें दाई और असेंबली हॉल है और वहीं दूसरी बाई और एक मुख्य मंदिर स्थापित किया गया है। यह मंदिर ‘त्सोगखांग’ के नाम से भी प्रसिद्ध है।

लद्दाख के निवासियों का ऐसा मानना है कि हेमिस त्यौहार उनके स्वास्थ्य व शांति को बढ़ावा देता है। यह त्यौहार उनकी आस्था का प्रतीक है।इसे बहुत ही पावन तरीके से मनाया जाता है। एक चबूतरे पर गद्दे रखकर उसमे रंग-बिरंगे मेज लगाकर सभी पूजा सामग्री इकट्ठा करके बहुत ही आस्था व प्रेम से मनाते हैं। हेमिस उत्सव को मनाने के दौरान लोग भगवान से अच्छे स्वास्थ्य व शांति के लिए प्रार्थना करते हैं।

क्या आपने इसे पढ़ा- स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध

हेमिस त्यौहार की विशेषता (Importance)

हेमिस त्यौहार/उत्सव अपने आप मे ही बहुत विशेष है। इसकी विशेषता सुनकर आप लोग दोस्तो वास्तव में दंग रह जाएंगे और इसे मनाने के लिए लद्दाख पहुंच जाएंगे। आइए जानते हैं कि हेमिस उत्सव का महत्व (Importance Of Hemis Festival 2021) क्या है-

1- मुखौटा नृत्य

हेमिस त्योहार अपने आप में ही उल्लास व उमंग से भरा है। इस त्यौहार के आयोजन में लोग रंग-बिरंगे कपड़े पहन कर अपनी कला प्रदर्शनी करते हैं व मुखौटा पहनकर नृत्य करते हैं। यह सुनने में ही इतना रोचक है तो सोचिए वास्तव में कितना अनोखा होगा।

इस त्यौहार मे छाम नाम के लामासंत अपना अलौकिक नृत्य प्रस्तुत करते हैं जोकी राक्षसों या यम के भेष में सिंह का मुखौटा पहनकर करते हैं। यह नृत्य परंपरा का एक भाग ही है। इसके साथ ही साथ ढोल व मंजीरा आदि बजा कर अच्छाई की बुराई पर जीत रुपी प्रदर्शनी व हस्तकला आदि का आनंद भी उठाते हैं।

2- सौभाग्य का प्रतीक

हेमिस त्यौहार अपने आप में ही सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि जो भी इस त्यौहार में शामिल होता है उसे अच्छे भाग्य, अच्छे स्वास्थ्य व शांतिमय जीवन का आशीर्वाद प्राप्त होता है। इस त्यौहार का आनंद उठाने के लिए दूर-दूर से लोग शामिल होते हैं।

3- कला प्रदर्शनी का विस्तार

हेमिस त्यौहार के माध्यम से हस्तकला व अन्य कला प्रदर्शनी का प्रसार होता है। जिससे कि हम अपने संस्कृति से सदा जुड़े रहे और उसके महत्व को कभी भी ना भूलें।

आज हमने क्या सीखा ? 

तो दोस्तों, आज हमने हेमिस त्यौहार पर निबंध (Hemis Festival Essay in Hindi 2021) के अंतर्गत हेमिस त्योहार पर पूरी जानकारी पढ़ी।हम आशा करते हैं कि आपको यह त्यौहार रोचक व आकर्षित किया होगा। यदि आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों रिश्तेदारों व सगे-संंबंधियो में भी अवश्य शेयर करें ताकि उन्हें भी इस जानकारी का लाभ मिल सके तो मिलते हैं हमारे अगले आर्टिकल में तब तक स्वस्थ रहें मस्त रहें।

FAQ

1- हेमिस त्यौहार 2021 में कब मनाया जाएगा?

Ans- 20 जून (रविवार) व 21 जून (सोमवार) को।

2- हेमिस त्योहार की विशेषता क्या है?

Ans- मुखौटा नृत्य।

3- हेमिस त्यौहार कहां मनाया जाता है?

Ans- लद्दाख के हेमिस मठ में।

4- हेमिस त्यौहार क्यों मनाया जाता है?

Ans- संत पद्म्संभवा के जन्मदिन पर उन्हें सम्मान देने के लिए।

5- हेमिस त्योहार किस धर्म से जुड़ा है?

Ans- बोद्ध धर्म से।

इसे भी जरूर पढ़े-

पढ़ाई में मन कैसे लगाये

आतंकवाद पर निबंध

तूफान पर निबंध

जल प्रदूषण पर निबंध

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link
Powered by Social Snap