अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस पर निबंध | International Olympic Day essay in hindi 2021

आज इस लेख में हम अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस पर निबंध के बारे में जानेंगे, आज हम जानेंगे की अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस कब मनाया जाता है, क्यों मनाया जाता है कितने देश अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक खेल महोत्सव में भागीदारी रखते है, कितने प्रकार के खेल इसमें खेले जाते है।

अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस को मनाये जाने के पीछे के रहस्य से लेकर इसके आधुनिक वैश्विकता में योगदान तक का सफ़र आज हम इस लेख के जरिये जानेंगे।

मित्रों, अपने अनुरोध है कि यदि आपको इस लेख में समाहित जानकारी पसंद आये तो कृपया अपने मित्रों व सगे सम्बन्धियों तक जरूर शेयर करे ताकि उन तक भी यह जानकारी पहुंच पाए।

तो चलिए शुरू करते है…

क्या होता है ओलंपिक दिवस?

• 1894 में आज ही के दिन (23 जून) अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति की स्थापना हुई थी।

• आज के दिन की भव्यता को देखते हुए विश्व के सभी बड़ी व छोटी हस्तियां ओलंपिक, जो खेलों का महाकुम्भ भी माना जाता है, और लोग उसके लिए ओलंपिक के किसी न किसी खेल को खेलती है या खेलने की कोशिश करती है।

• इसका कारण, पूरे विश्व को खेलों के बारे में सचेत करना और स्वास्थ्य और खुद को बेहतर बनाने के लिए मेहनत कर सके, इसके लिए प्रोत्साहित करना है।

• इसमें विश्वभर से कोई भी भाग ले सकता है तथा लेते भी है।

अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस कब और किस लिए मनाया जाता है

• अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस हर साल 23 जून को मनाया जाता है जिसे सारी दुनिया में लोग एक त्यौहार की तरह मानते है और अलग अलग देशों से लोग इसमें सम्मिलित होते है।

अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस पर निबंध
अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस पर निबंध

• प्रतिवर्ष, विश्व के सभी लोग, खेलों का सम्मान करने के लिए व खेलो के प्रति जागरूकता बढ़ने के लिए ओलंपिक दिवस प्रतिवर्ष मनाया जाता है।

ओलंपिक दिवस का इतिहास

• अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति के 41वें सत्र में डॉक्टर ग्रस ने, जो कि चेक OIC के सदस्य है, विश्व ओलंपिक दिवस का विचार प्रस्तुत किया था।

• विश्व ओलंपिक दिवस का मूल उद्देश्य, ओलंपिक के संदेशों व खेलों के बारे में जागरूकता को बढ़ने के लिए किसी एक विशेष दिन को चुनना था।

• 1948 में OIC के 42वें सत्र में इस प्रस्ताव को मंजूरी मिल गयी तथा इस कार्यक्रम के आयोजन का प्रभारी राष्ट्रीय ओलंपिक समितियों को बनाया गया, और बाद में यह तारीख इतिहास के के पन्नों का एक सुनहरा हिस्सा बन गया।

• 23 जून, 1894 को सोरबोन, पेरिस में अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति की स्थापना की गई थी, तथा वहीँ  पियरे डे कोबेर्टिन ने ओलंपिक खेलों के पुनर्जीवन के लिए एक रैली की थी।

पहली बार कब व किसने मनाया था?

23 जून 1948 को अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस पहली बार मनाया गया था। पुर्तगाल, ग्रीस, ग्रेट ब्रिटेन, उरुग्वे, वेनेजुएला, ऑस्ट्रिया, कनाडा, स्विट्जरलैंड और बेल्जियम ने उस समय अपने-अपने देशों में ओलंपिक दिवस का आयोजन किया।

उस समय के आईओसी के अध्यक्ष सिगफ्रीड एडस्ट्रॉम ने दुनिया के युवाओं को ओलंपिक के खेलों को लेकर एक सद्भाव का संदेश दिया।

क्या इस बार होगा कुछ खास?

कोरोना महामारी के इस दौरान जब कि सब कुछ बंद है और खेलों पर भी इसका भारी साया पड़ा है।

ऐसे वक्त में इस दिन को इंटरनेट और सोशल मीडिया के माध्यम से खास बनाने की तैयारी है। सबसे अनोखा व महत्वपूर्ण आयोजन यह है कि 23 जून को ओलंपिक दिवस के दिन दुनिया का सबसे बड़ा 24 घंटे के पहले डिजिटल-ओलंपिक वर्कआउट का आयोजन होगा।

ओलंपिक दिवस का हिस्सा कौन बन सकता है?

• इसमें शामिल होने के लिए आपको कोई महान खिलाड़ी या ओलंपियन होने की जरूरत नहीं है।

• इस बार इसमें खिलाड़ियों और ओलंपिक के इंस्टाग्राम पेज साथ साथ विश्व की कई महत्वपूर्ण हस्तीयों के इंस्टाग्राम हैंडल से जुड़ा जा सकता है।

• आज दुनियाभर के स्टार और दिग्गज खिलाड़ी, राजनेता, समाज सुधारक व कई लोकप्रिय हस्तियां अपने-अपने घर से ऑनलाइन वर्कऑउट करेंगे और उनके साथ कोई भी जुड़कर आप खुद भी वर्कआउट कर सकते है और अपने पसंदीदा खिलाड़ियों से प्रेरणा ले सकते है।

ओलंपिक दिवस के दिन लोग क्या करते हैं?

आज कल ओलंपिक दिवस केवल एक छोटी सी दौड़ या कोई अकेले खेले जाने वाला खेल भर नहीं रहा, ओलंपिक दिवस पर खेलों का आयोजन बहुत ही बड़े स्तर पर होता है।

• ओलंपिक दिवस के दिन ओलंपिक समितियां अपने गाढे तीन स्तंभों “आगे बढ़ो”, “सीखों”, “खोजो”  के आधार पर बिना किसी तरह का लिंग, उम्र, समाज, रंग के आधार पर भेद भाव किये, खेलों व खेलों के तरीकों की अलग अलग पहल करता है।

• इसके अंतर्गत वे सभी लोग शामिल होते है तो विश्व ओलंपिक दिवस में थोड़ी भी रूचि रखते है और हर वर्ष इसमें भाग लेने वाले लोगो की सख्या बढती जा रही है।

• कुछ देशों ने इस दिवस को अपने स्कूल के पाठ्यक्रम का हिस्सा बना लिया है, ऐसे में हर कोई ओलंपिक दिवस का हिस्सा हो सकता है।

ओलंपिक दिवस पर लोग कौन-कौन से खेल खेले जाते है?

विश्वभर में ओलंपिक दिवस पर अलग अलग अनगिनत खेल खेले जाते है, लेकिन यही उन खेलों को नामांकित करना हो तो उन खेलों के नाम आपको ओलंपिक के खेलों में भी जरूर मिल जायेंगे।

यहाँ हमने कोशिश करी है की हम थोड़े बहुत खेलों के बारे में आपको बता पायें।

विश्वभर में अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस पर यह निम्न खेल खेले जाते है जैसे-

• बास्केटबॉल

• एक्रोबेटिक जिम्नास्टिक

• अल्पाइन स्कीइंग

• तीरंदाजी

• कलात्मक जिमनास्टिक

• कलात्मक तैराकी

• व्यायाम

• बैडमिंटन

• बेसबॉल सॉफ्टबॉल

• बास्केटबॉल

• बीच हैंडबॉल

• समुद्र तट वॉलीबॉल

• बैथलॉन

• बीएमएक्स रेसिंग

• बोबस्लेय

• मुक्केबाज़ी

• डोंगी / कश्ती स्लैलोम

• कर्लिंग

• घुड़सवारी

• फिगर स्केटिंग

• फ़ुटबॉल

• फ्रीस्टाइल स्कीइंग

• गोल्फ़

•हेन्डबोल

• हॉकी

• मैराथन तैराकी

यह वे खेल है जो अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस पर विश्वभर में लोगों द्वारा अनेक अनेक जगह से खेले जाते है ताकि लोग ओलंपिक के खेलों के प्रति जागरूकता का संदेश दे पाए।

उपसंहार

आज के लेख में हमने अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस पर निबंध के बारे में एक विस्तृत जानकारी प्राप्त कराई। यदि आपको इस लेख में दी गयी जानकारी पसंद आई तो कृपया इसे अपने मित्रों व सगे सम्बन्धियों तक जरूर प्रसारित करे, शेयर करें, ताकि उन सब तक भी यह जानकारी पहुँच पाए।

FAQ

Q1- ओलंपिक झंडे में कितने छल्ले होते हैं?

Ans:- ओलंपिक झंडे पर 5 रंग के छल्ले होते हैं।

Q2- ओलंपिक के पांच छल्ले क्या-क्या दर्शाते हैं?

Ans:- पूरे विश्व में जो 5 महाद्वीप ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका, यूरोपीय, एशिया, ओसिनिया, और अफ्रीका हैं उन्हीं को दर्शाते हैं।

Q3- ओलंपिक झंडे का निर्माण कब हुआ था?

Ans:- 1912 में ओलंपिक झंडे का निर्माण हुआ था।

Q4- किस देश ने सबसे ज्यादा ओलंपिक पदक जीते हैं?

Ans:- सबसे ज्यादा ओलंपिक पदक जीतने वाला देश ग्रेट ब्रिटेन है जिन्होंने 67 ओलंपिक पदक जीते हैं।

Q5- अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति का उपाध्यक्ष कौन है?

Ans:- यू जैकिंग 
जुआन एंटोनियो समरंच सैलिसिस
उगुर एर्डनर 
अनीता डीफ्रंटज़ यह सभी अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के उपाध्यक्ष हैं।

Q6- ओलंपिक के छल्लो को किसने डिजाइन किया था?

Ans:- पियरे डी कुबर्तिन

Q7- अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति का अध्यक्ष कौन है?

Ans:- थॉमस बाच

क्या आपने इसे पढ़ा

3 thoughts on “अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस पर निबंध | International Olympic Day essay in hindi 2021”

Leave a Comment